"लालू भाई सामलदास मेहता" के अवतरणों में अंतर  हिन्दी देवनागरी में पढ़ें।

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
(''''लालू भाई सामलदास मेहता''' ( जन्म- 14 अक्टूबर, 1863, मृत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(उद्योगों के प्रति रुझान)
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
  
 
==उद्योगों के प्रति रुझान==
 
==उद्योगों के प्रति रुझान==
लालू भाई सामलदास मेहता का मानना था कि देश के विकाश के लिए उद्योगों का विकाश होना जरूरी है और हम सहकारिता के आधार पर ही प्रगति कर सकते हैं। उन्होंने बालचंद हीराचंद के साथ 'सिंधिया स्टीम नेविगेशन कंपनी' नामक जहाजरानी कंपनी की स्थापना में प्रमुख भूमिका निभाई। वे सीमेंट, [[कागज]], चीन, कांच, और विद्युत उपकरणों के उद्योगों की स्थापना में भी अग्रणी थे। वे लंबे समय तक टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी के निदेशक रहे। बैंक ऑफ इंडिया और बैंक आफ बड़ौदा को आगे बढ़ाने में उनका बड़ा योगदान था।  'मुंबई लाइव इंश्योरेंस कंपनी' की स्थापना उन्होंने ही की थी।
+
लालू भाई सामलदास मेहता का मानना था कि देश के विकास के लिए उद्योगों का विकास होना जरूरी है और हम सहकारिता के आधार पर ही प्रगति कर सकते हैं। उन्होंने बालचंद हीराचंद के साथ 'सिंधिया स्टीम नेविगेशन कंपनी' नामक जहाजरानी कंपनी की स्थापना में प्रमुख भूमिका निभाई। वे सीमेंट, [[कागज]], चीन, कांच, और विद्युत उपकरणों के उद्योगों की स्थापना में भी अग्रणी थे। वे लंबे समय तक टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी के निदेशक रहे। बैंक ऑफ इंडिया और बैंक आफ बड़ौदा को आगे बढ़ाने में उनका बड़ा योगदान था।  'मुंबई लाइव इंश्योरेंस कंपनी' की स्थापना उन्होंने ही की थी।
 +
 
 
==मृत्यु==
 
==मृत्यु==
 
लालू भाई सामलदास मेहता का [[1936]] में स्वर्गवास हो गया।
 
लालू भाई सामलदास मेहता का [[1936]] में स्वर्गवास हो गया।

16:00, 9 अक्टूबर 2019 के समय का अवतरण

laloo bhaee samaladas mehata ( janm- 14 aktoobar, 1863, mrityu- 1936) prasiddh udyogapati the. 1926 men british sarakar ne unhen 'sar' ki upadhi di thi.

parichay

apane samay ke prasiddh udyogapati laloo bhaee samaladas mehata ka janm 14 aktoobar 1863 ko saurashtr ke bhavanagar kasbe men ek snpann parivar men hua tha. unake pita samaladas paramannd pahale riyasat men chiph jastis the aur phir divan ho ge. samaladas ke bad unake ek putr vitthaladas divan bane. laloo bhaee ki shiksha munbee ki elaphistan kaaulej men huee. unaka manana tha ki desh udyogon ke vikas se aur sahakarita ke adhar par hi unnati kar sakata hai. 1926 men british sarakar ne unhen 'sar' ki upadhi se navaja tha.[1]

udyogon ke prati rujhan

laloo bhaee samaladas mehata ka manana tha ki desh ke vikas ke lie udyogon ka vikas hona jaroori hai aur ham sahakarita ke adhar par hi pragati kar sakate hain. unhonne balachnd hirachnd ke sath 'sindhiya stim nevigeshan knpani' namak jahajarani knpani ki sthapana men pramukh bhoomika nibhaee. ve siment, kagaj, chin, kanch, aur vidyut upakaranon ke udyogon ki sthapana men bhi agrani the. ve lnbe samay tak tata ayaran end stil knpani ke nideshak rahe. baink aauph indiya aur baink aph badauda ko age badhane men unaka bada yogadan tha. 'munbee laiv inshyorens knpani' ki sthapana unhonne hi ki thi.

mrityu

laloo bhaee samaladas mehata ka 1936 men svargavas ho gaya.


panne ki pragati avastha
adhar
prarambhik
madhyamik
poornata
shodh

tika tippani aur sndarbh

  1. bharatiy charit kosh |lekhak: liladhar sharma 'parvatiy' |prakashak: shiksha bharati, madarasa rod, kashmiri get, dilli |prishth snkhya: 767 |

bahari kadiyan