"लोकटक झील" के अवतरणों में अंतर  हिन्दी देवनागरी में पढ़ें।

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
('{{पुनरीक्षण}} 250px *लोकटक झी...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
*इस झील में घनी जलीय घास के बड़े-बड़े हिस्से तैरते रहते हैं जिन्हें फुमडी के नाम से जाना जाता है।  
 
*इस झील में घनी जलीय घास के बड़े-बड़े हिस्से तैरते रहते हैं जिन्हें फुमडी के नाम से जाना जाता है।  
 
*इन तैरती वनस्पतियों के कारण लोकटक झील को तैरती झील कहा जाता है।  
 
*इन तैरती वनस्पतियों के कारण लोकटक झील को तैरती झील कहा जाता है।  
*जलीय घास के ये हिस्से इतने बड़ॆ होते है कि झील में बसने वाले मछुआरे उसमें अपनी झोपड़ी बना कर रहते हैं।
+
*जलीय घास के ये हिस्से इतने बड़ॆ होते है कि झील में बसने वाले मछुआरे उसमें अपनी झोपड़ी बना कर रहते हैं।<ref>{{cite web |url=http://travelwithmanish.blogspot.com/2010_06_01_archive.html |title=मणिपुर की लोकटक झील, गोल घेरों वाली तैरती फुमडियाँ और संगाई हिरण |accessmonthday=[[31 अगस्त]] |accessyear=2011 |last= |first= |authorlink= |format=|publisher=मुसाफ़िर हूँ यारों |language=[[हिन्दी]] }}</ref>
  
 
{{लेख प्रगति|आधार=|प्रारम्भिक=प्रारम्भिक1 |माध्यमिक= |पूर्णता= |शोध= }}
 
{{लेख प्रगति|आधार=|प्रारम्भिक=प्रारम्भिक1 |माध्यमिक= |पूर्णता= |शोध= }}

18:16, 31 अगस्त 2011 का अवतरण

Icon-edit.gif is lekh ka punarikshan evn sampadan hona avashyak hai. ap isamen sahayata kar sakate hain. "sujhav"
lokatak jhil
  • lokatak jhil bharat ke uttarapoorv ki sabase badi mithe pani ki jhil hai. yah jhil manipur men khooga nadi ke pas sthit hai.
  • lokatak jhil dekhane men bahut khoobasoorat hai.
  • lokatak jhil vishv men tairati jhil ke nam se vikhyat hai.
  • is jhil men ghani jaliy ghas ke bade-bade hisse tairate rahate hain jinhen phumadi ke nam se jana jata hai.
  • in tairati vanaspatiyon ke karan lokatak jhil ko tairati jhil kaha jata hai.
  • jaliy ghas ke ye hisse itane badॆ hote hai ki jhil men basane vale machhuare usamen apani jhopadi bana kar rahate hain.[1]


panne ki pragati avastha
adhar
prarambhik
madhyamik
poornata
shodh

tika tippani aur sndarbh

  1. manipur ki lokatak jhil, gol gheron vali tairati phumadiyan aur sngaee hiran (hindi) musafir hoon yaron. abhigaman tithi: 31 agast, 2011.

bahari kadiyan

snbndhit lekh