"सदस्य:शिल्पी गोयल/अभ्यास1" के अवतरणों में अंतर  हिन्दी देवनागरी में पढ़ें।

पंक्ति 13: पंक्ति 13:
 
|कर्म-क्षेत्र=संगीत निर्देशक
 
|कर्म-क्षेत्र=संगीत निर्देशक
 
|मुख्य रचनाएँ=
 
|मुख्य रचनाएँ=
|मुख्य फ़िल्में='यूं हसरतों के दाग़'..अदालत (1958), 'हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ आराम कहाँ'.. जेलर (1958), 'मैं तो तुम संग नैन मिला के'..मनमौजी, 'ना तुम बेवफा हो'.. एक कली मुस्कुरायी, 'वो भूली दास्तां लो फिर याद आ गयी'..संजोग (1961)
+
|मुख्य फ़िल्में='यूं हसरतों के दाग़'..अदालत, 'हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ आराम कहाँ'.. जेलर, 'मैं तो तुम संग नैन मिला के'..मनमौजी, 'ना तुम बेवफा हो'.. एक कली मुस्कुरायी, 'वो भूली दास्तां लो फिर याद आ गयी'..संजोग
 
|विषय=
 
|विषय=
 
|शिक्षा=
 
|शिक्षा=

17:48, 5 अक्टूबर 2011 का अवतरण

shilpi goyal/abhyas1
Madan-Mohan.jpg
poora nam madan mohan kohali
janm 25 joon 1924
janm bhoomi bagadad, irak
mrityu 14 julaee 1975
karm bhoomi munbee
karm-kshetr sngit nirdeshak
mukhy filmen 'yoon hasaraton ke dag'..adalat, 'ham pyar men jalane valon ko chain kahan aram kahan'.. jelar, 'main to tum sng nain mila ke'..manamauji, 'na tum bevapha ho'.. ek kali muskurayi, 'vo bhooli dastan lo phir yad a gayi'..snjog
puraskar-upadhi sarvashreshth sngitakar ka rashtriy puraskar
vishesh yogadan madan mohan ko vishesh roop se film udyog men gazalon ke lie yad kiya jata hai.
pasndida gitakar raja menhadi ali khan, rajendr krishn aur kaiphi ajami